Skip to main content

IMPORTANCE OF DONATION DURING CORONA PANDEMIC

कोरोना महामारी के दौरान दान का महत्त्व

नमस्कार दोस्तों ,
चाय और चर्चा में आपका स्वागत है। आज के इस आर्टिकल में हम बात करेंगे CORONA PANDEMIC के दौरान DONATION के महत्व की। 

DONATION

WHAT IS DONATION

वर्तमान समय में CORONA PANDEMIC के कारण विश्व भर में जो हालत बने हुए हैं अत्यंत ही भयावह और चिंताजनक हैं। जाने कितने ही लोगों को इस CORONA PANDEMIC के कारण अपने प्रियजनों से बिछड़ना पड़ा है।

जब CORONA PANDEMIC ने पूरी दुनिया में अपना विनाश फैलाया तब हमें दो बातें मुख्य तौर पर सिखाई गई - अपना व परिवार के स्वास्थ्य का ध्यान रखें और इस CORONA PANDEMIC से भयभीत न हों। लेकिन तीसरी व् सबसे महत्वपूर्ण बात जो हमें स्वयं सीखनी होगी और दृढ़ता के साथ अपनी जीवन शैली में अपनानी होगी वो है DONATION करने की आदत।

DONATION से तात्पर्य सिर्फ रूपए - पैसे से नहीं बल्कि जिस प्रकार से हो सके DONATION करके लोगों की हर संभव सहायता करना।  

CORONA PANDEMIC के आने से स्वास्थ्य की समस्या के अलावा जो दूसरी सबसे बड़ी समस्या उभरकर लोगों के सामने आयी है वो है नकारत्मकता की भावना। CORONA PANDEMIC की पहली लहर आने के समय पर लोगों ने जो अच्छी आदतें जैसे - सफाई और सेहत का ध्यान रखना आदि अपनाई थी

वो CORONA PANDEMIC के पहले चरण के शांत होने के बाद जैसे छूटने सी लगी हैं। उन सभी आदतों के साथ DONATION की आदत को अपनाते हुए हमें पुनः एक साथ मिलकर इस CORONA PANDEMIC में जरूरतमंदो की सहायता करनी है। 

IMPORTANCE OF DONATION

प्राचीन समय से ही हमारी भारतीय संस्कृति में DONATION का एक महत्वपूर्ण स्थान रहा है। हमारे वेद - पुराणों में भी DONATION करने का महिमामंडन उच्च स्तर पर किया गया है। भविष्य पुराण में लिखित है -"यति किंचदी दीयते दानं स्वलंप तत सर्वमक्षयं यस्मात् तेनेयमक्षया स्मृता " 
अर्थात अक्षय तृतीया की तिथि में थोड़ा या बहुत अथवा कुछ भी दान किया जाये तो उसका फल अक्षय यानि कि नश्वर होता है। 

पहले लोग अपने सामर्थ्य अनुसार की वस्तुओं का DONATION करते थे जैसे कि - दूध , दही ,फल ,चावल , गन्ना आदि। यदि जरूरत के समय पर DONATION के द्वारा किसी की सहायता की जाती है तो उस DONATION का महत्त्व और अधिक बढ़ जाता है।  

यदि वास्तव में आपको पुण्य कमाकर अपना जीवन धन्य करना है तो जरूरतमंदो को DONATION अवश्य करें। प्राचीन वेद और पुराणों में DONATION का महत्व कुछ इस प्रकार से वर्णित किया गया है - वृहत्पराशर संहिता में कहा गया है कि -

"दानमेकं कलौ युगे" अर्थात कलयुग में की जाने वाली DONATION का पुण्य अकेले ही समस्त पुण्यों के बराबर है। इसी प्रकार से श्रीमद्भागवत महापुराण में कहा गया है "दान से मन को संतोष मिलता है और चित्त भी शुद्ध होता है"। 

NEED OF DONATION  

CORONA PANDEMIC में जंहा लोगो को शारीरिक व् मानसिक रूप से कष्ट भोगना पड़ रहा है, वही आर्थिक रूप से भी अत्यधिक लाचारी का सामना करना पड़ रहा है। एक बार सोचिये कि उन लोगो के क्या हालत होंगे जिन्होंने CORONA PANDEMIC के कारण अपने रोजगार खो दिए।

वो लोग जो दैनिक रूप से आने वाली कमाई के जरिये ही अपने पूरे परिवार का भरण - पोषण कर रहे थे, अब  लाचार अवस्था में अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं। 

यदि कुछ मध्यमवर्गीय परिवारों ने अपने भविष्य हेतु थोड़ी - बहुत रकम ज़मा भी कर रखी होगी तो इस CORONA PANDEMIC के दूसरे चरण ने उनकी भी कमर तोड़ दी। कितने ही गरीब - मजदूर लोगों को जो अपने घर - परिवार से दूर रहकर अन्य राज्यों में किसी तरह से जीवन यापन कर रहे थे, 

उन्हें पैदल ही सपरिवार पलायन हेतु मजबूर होना पड़ा। कुछ तो अपने घर पहुँच सके और कईओं ने तो घर पहुँचने की आश में रास्तों में ही दम तोड़ दिया। 

Covid19 Pandemic

कई लोगों ने मानवता दिखाते हुए रास्तों में भोजन - जल आदि की व्यवस्था करके या कुछ पैसों का अथवा किसी अन्य प्रकार का DONATION कर उन लोगों की यथासम्भव सहायता की जो की निश्चित तौर पर अत्यंत ही प्रशंसनीय कार्य है। 

BE BRAVE AND DO DONATIONS 

CORONA PANDEMIC के इस दूसरे चरण में लोगों के भीतर एक नकारात्मक भावना ने भी घर कर लिया है। हाल ही में दिल्ली में घटित हुई घटना ने एक बार फिर से मानवता को शर्मसार करने का कार्य किया है।

CORONA PANDEMIC के इन हालातों में जब पूरे विश्व में लोग , सरकारें एक - दूसरे व् अन्य देशों की मदद कर रही हैं , दिल्ली में कुछ लोगों ने अग्रिम व अनावश्यक तौर पर ही दवाओं , ऑक्सीजन सिलेंडर्स , व अन्य मेडिकल वस्तुओं का संग्रह करना शुरू कर दिया। 

कुछ लोगों ने तो मानवता की सारी हदें पार करते हुए इन दवाइयों व अन्य आवश्यक वस्तुओं की कालाबाजारी भी शुरू कर दी। जंहा प्राचीन समय में लोग खुद भूखे रहकर भी दरवाजे पर आये किसी व्यक्ति को भूखा नहीं जाने देते थे , ऐसी संस्कृति वाले देश में इस प्रकार की ओछी हरकतें आश्चर्यचकित करती हैं।  

DONATION AND HOPES  

वर्ष 2020 अत्यंत ही निराशाजनक रहा , लेकिन हमें उम्मीद थी कि वर्ष 2021 नयी उम्मीदें लेकर आएगा पर CORONA PANDEMIC के दूसरे चरण ने और भी भयावह स्थिति उत्पन्न कर दी।

ये उचित है की लोग अपने भविष्य की सुरक्षा हेतु इंतज़ाम करें और आने वाली समस्यायों से निपटने के लिये शारीरिक व मानसिक रूप के साथ ही आर्थिक तौर पर भी सुदृढ़ बने, लेकिन साथ ही साथ हमें यह भी सोचना चाहिए की DONATION करना भी उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि अपने व अपने परिवार के हितों के विषय में सोचना। 

Donate and Help

यदि आपके द्वारा की गयी छोटी सी DONATION से किसी की थोड़ी सी सहायता भी हो सकती है, यदि कोई व्यक्ति स्वयं व परिवार के लिए आपके द्वारा की गई DONATION रुपी सहायता से एक वक़्त के भोजन की भी व्यवस्था कर सकता है तो शायद सक्षम होने के पश्चात वह भी खुले मन से अपने द्वारा की गई DONATION से किसी अन्य की मुसीबत के समय में सहायता कर सकता है। 

INSPIRE OTHERS WITH DOANTION   

DONATION एक ऐसा कार्य है जो किसी के दबाब में आकर नहीं किया जा सकता है। यह ह्रदय से आत्मसंतुष्टि के लिए किया जाने वाला कार्य है। DONATION के किये जाने वाले अनुपात से DONATION के महत्व का अनुमान नहीं लगाया जाना चाहिए एवं व्यक्ति विशेष को अपनी सामर्थ्य के अनुसार DONATION करना जरूर चाहिए।

यदि आपके पास कुछ भी ऐसा है जो आपको आपकी आवश्यकता से अधिक अथवा निष्प्रयोज्य लगता है तो उसे DONATION के रूप में आगे देकर अन्य लोगों को भी DONATION करने के लिए प्रेरित करना चाहिए। आपके द्वारा की जाने वाली DONATION शायद किसी को अत्यधिक लाभ या जीवनकारक मदद हो सकती है।  

DONATION AND SELF SATISFACTION 

चलिए अब बात करते हैं DONATION के रूप में आत्म - अवलोकन की। क्या DONATION से सिर्फ मदद पाने  वाले व्यक्ति या समुदाय को ही ख़ुशी का अनुभव होता है ? नहीं , अपितु DONATION करने वाले व्यक्ति या समुदाय में भी ज़हनी तौर पर उतनी ही ख़ुशी और आत्मसंतुष्टि की भावना का संचार होता है। 

Corona Pandemic

DONATION
की  प्रक्रिया एक श्रृंखला के रूप में कार्य करती है। यदि आपने DONATION के द्वारा किसी की सहायता की तो यह प्रक्रिया DONATION के रूप में मदद पाने वाले व्यक्ति को भी भविष्य में अपने सामर्थ्य के अनुसार DONATION के रूप में किसी अन्य जरूरतमंद की सहायता करने के लिए प्रेरित करती है। 

SPREAD HAPPINESS IN OTHERS LIFE WITH DONATION 

आपके DONATION द्वारा की जाने वाली मदद से किसी के संपूर्ण जीवन की दिशा बदल सकती है। चाहें तो DONATION करने के लिए GROUP DONATION की भी सहायता ली जा सकती है। सामर्थ्य अनुसार DONATION करके किसी संस्था की भी सहायता कर सकते हैं जो की जरूरतमंदो के लिए कार्य करती हैं। अपने आस-पास मौजूद लोगों की , बीमारों की , वुजुर्गों की व अन्य जीवों की जो स्वयं इतने सक्षम नहीं है की खुद की देखभाल कर सकें। 

IMPORTANCE OF DONATION DURING CORONA PANDEMIC

CORONA PANDEMIC के प्रकोप के कारण अत्यंत ही भयानक स्थिति बनी हुई है। किन्तु यह हमें पुनः आत्ममंथन को भी मजबूर करती है और CORONA PANDEMIC के दौरान DONATION के महत्व को गहराई से समझने व अपनाने के रास्ते की और भी अग्रसर करती है।

यदि इस भयावह स्थिति में हम सब मिलकर संकल्प ले की हम सब अपने सामर्थ्य अनुसार DONATION के द्वारा CORONA PANDEMIC के दौरान जरूरतमंदो की सहायता करेंगे व DONATION करने की आदत को नैतिक मूल्यों के समान अपने जीवन में सम्मिलित करेंगे तो निश्चित रूप से ही इस संसार में बड़ा बदलाव आ सकता है। 

Donate and Spread Happiness

मनुष्य का जीवन बड़ा ही मूल्यवान है और उसे DONATION करने की आदत के द्वारा सही मायनों में सफल किया जा सकता है। यदि आप DONATION करते हैं तो आपके द्वारा की जाने वाली DONATION की प्रक्रिया से कितने हीअन्य लोग प्रेरित होकर दूसरों की सहायता कर सकते हैं और एक बेहतर , शांत , स्वस्थ व प्रगतिशील दुनिया का निर्माण कर सकते हैं। 

उम्मीद करता हूँ आपको आर्टिकल पसंद आया  होगा, अपने रिएक्शन देकर पोस्ट को शेयर करें और कमेंट करें। 
ऐसी और भी पोस्ट पढ़ने के लिए ब्लॉग को फॉलो और सब्सक्राइब करें। 
धन्यवाद।

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Hindi Kahaniyan Shiv-Parvati The True Love Story

शिव-पार्वती (एक अनोखी प्रेम गाथा) शिव-पार्वती जो कि हमारे हिन्दू धर्म के बहुत ही असाधारण और पूजनीय देवी देवता हैं, इनके बारे में अनेक कथाएँ और गाथायें आपको सुनने और पढ़ने में आयी होंगी, पर क्या आप जानते हैं कि इनकी अनोखी प्रेम गाथा सिर्फ कहानी और किस्सा नहीं बल्कि सदियों पुरानी एक हकीकत है।  आजकल सोशल मीडिया पर तरह तरह का ट्रेंड आ जाता है, जैसे कोई त्यौहार या जयंती होने पर हजारों फोटोज और वीडियोस ट्रेंडिंग हो जाते हैं, उदाहरण के लिए अभी हाल में ही महाशिवरात्रि पर लोगों ने अलग अलग तरीके से ये त्यौहार मनाया।  किसी ने शिव-पार्वती की फोटो तो किसी ने शिव जी की विष पीते हुए, तांडव करते हुए या फिर चिलम पीते हुए की फोटो अपनी अपनी स्टोरी और पोस्ट में शेयर की लेकिन शायद ही बहुत काम लोग जानते होंगे कि शिव-पार्वती या फिर शिव जी का असली रूप क्या था या उनकी जिंदगी की सच्चाई और असल पहलू क्या थे ? शिव-पार्वती असल में सिर्फ एक नाम नहीं एक देवी-देवता नहीं बल्कि एक एहसास हैं, शिव-पार्वती असल में एक बंधन है ऐसा पवित्र बंधन जो हमको सच और सच्चाई पर चलने की राह दिखता है और हमको सही मायने में सच्चे प्

Hindi Kahaniyan- Terry Fox (Marathon of Hope) An Inspiration : हिन्दी कहानियां - टेरी फॉक्स (मैराथॉन ऑफ़ होप) एक प्रेरणा

Hindi Kahaniyan- Terry Fox (Marathon of Hope) An Inspiration : हिन्दी कहानियां - टेरी फॉक्स (मैराथॉन ऑफ़ होप) एक प्रेरणा  नमस्कार दोस्तों , चाय और चर्चा में आपका स्वागत है।  आज का आर्टिकल Hindi kahaniyan हिंदी कहानियाँ   एक ऐसे शख्स Terry Fox के बारे में है। इस Article को पढ़ने और Terry Fox के विषय में जानने के बाद निश्चित रूप से स्वयं में एक परिवर्तन महसूस करेंगे जो जीवन में कठिन से कठिन समय में भी आपको मजबूत इरादों के साथ डटे रहने के लिए Inspiration देगा। Hindi Kahaniya में आज - Terry Fox (Marathon of Hope)  An Inspiration के बारे जानते हैं और उनके द्वारा की गई एक पहल को आगे बढ़ाने का प्रयास करते हैं।  Early Life of Terry Fox (टेरी फॉक्स का प्रारम्भिक जीवन) Terry Fox का जन्म जुलाई 1958 को कनाडा में हुआ। उनके Father का नाम Rolland Fox था जो की Canadian National Railway में Switch man के तौर पर कार्य करते थे और उनकी Mother का नाम Betty Fox था। बचपन से ही Terry Fox को Sports में अत्यधिक रूचि थी। वो स्कूल के दिनों से ही Soccer , Rugby और Baseball खेला करते थे लेकिन Terry Fox को Baske

ROHINGYA MUSLIMS: Terror Or Terrified?

रोहिंग्या मुसलमान : आतंक और आतंकित? वर्तमान समय में रोहिंगिया मुसलमानो के विषय में यह प्रश्न फिर चर्चा का विषय बन कर उभरा है क्या वास्तव में ये रोहिंगिया मुसलमान आंतक का चेहरा हैं या इन रोहिंगिया मुसलमानो का समुदाय बीती कई सदियों से बस आतंकित किये जाते रहे हैं।  अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाले ये रोहिंग्या मुसलमान वास्तव में विश्व के कई देशों में जिसमे भारत भी शामिल है, में आतंक का कारण बने हुए हैं य फिर अल्पसंख्यक समुदाय से आने के कारण बस आतंकित किये जा रहे है। रोहिंग्या मुसलमानो के आतंक और आतंकित होने के विषय में चर्चा करने से पहले इन रोहिंग्या मुसलमानो के विषय में कुछ विशेष तथ्यों के बारे में जान लेते हैं।  कौन हैं ये रोहिंगिया मुसलमान? वर्तमान समय में शरर्णार्थी के तौर दर-बदर भटकने वाले इन रोहिंग्या मुसलमानो को इनके अतीत के तौर पर अरकानी भारतीयों के तौर पर जाना जाता है। रोहिंग्या मुस्लिम समुदाय मुख्य रूप से मुसलमान बाहुल्य व आंशिक रूप से हिन्दू जनसँख्या वाला समुदाय है।  अगर बात रोहिंग्या मुसलमानो के इतिहास की करी जाये तो 8वीं शताब्दी से रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार में ब