Skip to main content

Hindi Kahaniyan- Terry Fox (Marathon of Hope) An Inspiration : हिन्दी कहानियां - टेरी फॉक्स (मैराथॉन ऑफ़ होप) एक प्रेरणा

Hindi Kahaniyan- Terry Fox (Marathon of Hope) An Inspiration : हिन्दी कहानियां - टेरी फॉक्स (मैराथॉन ऑफ़ होप) एक प्रेरणा 

नमस्कार दोस्तों ,
चाय और चर्चा में आपका स्वागत है। 

Terry Fox

आज का आर्टिकल Hindi kahaniyan हिंदी कहानियाँ  एक ऐसे शख्स Terry Fox के बारे में है।
इस Article को पढ़ने और Terry Fox के विषय में जानने के बाद निश्चित रूप से स्वयं में एक परिवर्तन महसूस करेंगे जो जीवन में कठिन से कठिन समय में भी आपको मजबूत इरादों के साथ डटे रहने के लिए Inspiration देगा। Hindi Kahaniya में आज -Terry Fox (Marathon of Hope) An Inspiration के बारे जानते हैं और उनके द्वारा की गई एक पहल को आगे बढ़ाने का प्रयास करते हैं। 

Early Life of Terry Fox (टेरी फॉक्स का प्रारम्भिक जीवन)

Terry Fox का जन्म जुलाई 1958 को कनाडा में हुआ। उनके Father का नाम Rolland Fox था जो की Canadian National Railway में Switch man के तौर पर कार्य करते थे और उनकी Mother का नाम Betty Fox था। बचपन से ही Terry Fox को Sports में अत्यधिक रूचि थी। वो स्कूल के दिनों से ही Soccer , Rugby और Baseball खेला करते थे लेकिन Terry Fox को Basketball सबसे ज्यादा पसंद था।

हालांकि Basketball खेलने के लिए अच्छी Height का होना आवश्यक है और Terry Fox की Height इतनी नहीं थी। Terry Fox की Sports spirit और उनकी क्षमता को देखते हुए उनके Sports coach ने उन्हें Distance Running के लिए Inspiration दी। Terry Fox को Distance running में ख़ास रूचि नहीं थी लेकिन फिर भी अपने टीचर के कहने पर उन्होंने Distance Running की Practice शुरू कर दी। उन्होंने Basketball खेलना जारी रखा और उनकी मेहनत का ही नतीजा रहा की Terry Fox को 12th Grade में संयुक्त रूप से "Athlete of the year" का Award मिला।  

Osteosarcoma (A Bone Cancer) ऑस्टिओसारकोमा (हड्डी का कैंसर)

12 November 1976 को Terry Fox , College से Car Drive करके वापस आ रहे थे तभी अचानक एक Under Construction Bridge के पास उनका ध्यान भटक गया और वो एक Pickup Truck के पिछले हिस्से से टकरा गए। उनकी Car अब चलने की स्थिति में नहीं थी और Terry Fox के Right Leg में काफी चोट लग गई थी। Terry Fox ने शुरुआती इलाज के बाद Right Leg की इस चोट को गंभीरता से नहीं लिया। December के महीने में उन्हें फिर से इस चोट के वजह से तकलीफ हुई पर उन्होंने फिर इसे Ignore कर दिया और अपना Basketball season जारी रखा लेकिन March 1977 तक उनके Right Leg की चोट  बहुत ही ज्यादा तकलीफदेह हो गई तो Terry Fox दोबारा से इलाज के लिए गए। जहाँ डॉ ने Terry Fox को Osteosarcoma के बारे में बताया। Osteosarcoma एक इस प्रकार का Cancer है जो की Normally घुटने के आस - पास शुरू होता है। 

Amputation of Right Leg (राइट लेग को काटकर अलग किया गया)

 उस समय में Cancer के लिए इतने Advance Treatment उपलब्ध नहीं थे ,हालाँकि Cancer का वर्तमान समय में भी कोई सटीक इलाज अभी तक उपलब्ध नहीं हो पाया है लेकिन उस समय हालात और भी ज्यादा विपरीत थे। डॉ ने Terry Fox को बताया की उन्हें Terry Fox का Right leg काटकर अलग करना पड़ेगा नहीं तो Cancer के Body में Spread होने की सम्भावना है। डॉ ने Terry Fox को  बताया की Surgery Survival के 50% Chance ही हैं। 

Terry Fox an Inspiration (टेरी फॉक्स एक प्रेरणा)  

Terry


Surgery के बाद Terry Fox के राइट लेग को एक Synthetic Leg से Replace किया गया और उसके तीन हफ्तों के बाद ही Terry Fox ने चलना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं वो अपने Father के साथ Golf खेलने भी जाने लगे। Terry Fox की इस Motivate करने और inspiration देने वाली सोच को देखकर डॉ भी काफी आश्चर्यचकित थे। 
इसके कुछ समय बाद ही Terry Fox एक Wheelchair Basketball Team के साथ जुड़ गए और उनके साथ खेलते हुए उन्होंने तीन National Medal भी जीते। वास्तव में Terry Fox का जीवन बहुत ही Inspiration देने वाला था।  

Terry Fox and Marathon of Hope (टेरी फॉक्स एंड मैराथन ऑफ़ होप)

Cancer के बारे में जागरूक करने और Cancer के इलाज के लिए research के लिए Fund raise करने के लिए Terry Fox ने "Marathon of hope" की शुरआत की। इसके लिए October 15 1979 को Terry Fox ने Canadian Cancer Society को एक पत्र लिखा और इस Marathon of Hope को शुरू करने के लिए Funding करने की अपील की।

Terry Fox ने इस पत्र में लिखा की वो अपनी इस Disability से नहीं हारना चाहते और वो इस Marathon of Hope को जरूर पूरा करेंगे चाहे उन्हें इस घिसटते हुए ही पूरा करना पड़े। इस पत्र में Terry Fox ने अपने Cancer Treatment के अनुभव को भी Share किया। 

इस Marathon of Hope की शुरुआत 2 September 1979 को एक 17 Mile(27km) की दौड़ में भाग लेने के बाद हुई। हालांकि इस दौड़ में Terry Fox सबसे अंतिम स्थान पर रहे लेकिन उन्होंने इस Marathon of Hope को पूरा किया। वंहा पर मौजूद हर एक व्यक्ति ने Terry Fox के उत्साहवर्धन में कोई कमी नहीं छोड़ी। 

June 28, 1981 को मात्र 22 वर्ष की आयु में Terry Fox  ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया लेकिन इतनी छोटी सी उम्र में भी Terry Fox सभी को एक कभी न खोने वाली Inspiration दे गए। वर्ष 1981 में प्रथम बार Terry Fox Run को आयोजित किया गया था।

यह अब तक विश्व की सबसे बड़ी एक दिवसीय Marathon race है जो की Cancer Awareness के लिए Fund Raiser के तौर पर कार्य कर रही है हर साल सितम्बर माह में साठ से भी ज्यादा देशों में इसका आयोजन किया जाता है। वर्ष 2018 तक इस Marathon of Hope के द्वारा $750 Million का Fund Raise किया जा चुका है। 

अगर पोस्ट पसंद आयी हो तो लाइक कमेंट शेयर करें और साथ ही ऐसी और भी पोस्ट्स के लिए हमारे ब्लॉग को फॉलो तथा सब्सक्राइब करना ना भूलें
धन्यवाद।  

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Hindi Kahaniyan Shiv-Parvati The True Love Story

शिव-पार्वती (एक अनोखी प्रेम गाथा) शिव-पार्वती जो कि हमारे हिन्दू धर्म के बहुत ही असाधारण और पूजनीय देवी देवता हैं, इनके बारे में अनेक कथाएँ और गाथायें आपको सुनने और पढ़ने में आयी होंगी, पर क्या आप जानते हैं कि इनकी अनोखी प्रेम गाथा सिर्फ कहानी और किस्सा नहीं बल्कि सदियों पुरानी एक हकीकत है।  आजकल सोशल मीडिया पर तरह तरह का ट्रेंड आ जाता है, जैसे कोई त्यौहार या जयंती होने पर हजारों फोटोज और वीडियोस ट्रेंडिंग हो जाते हैं, उदाहरण के लिए अभी हाल में ही महाशिवरात्रि पर लोगों ने अलग अलग तरीके से ये त्यौहार मनाया।  किसी ने शिव-पार्वती की फोटो तो किसी ने शिव जी की विष पीते हुए, तांडव करते हुए या फिर चिलम पीते हुए की फोटो अपनी अपनी स्टोरी और पोस्ट में शेयर की लेकिन शायद ही बहुत काम लोग जानते होंगे कि शिव-पार्वती या फिर शिव जी का असली रूप क्या था या उनकी जिंदगी की सच्चाई और असल पहलू क्या थे ? शिव-पार्वती असल में सिर्फ एक नाम नहीं एक देवी-देवता नहीं बल्कि एक एहसास हैं, शिव-पार्वती असल में एक बंधन है ऐसा पवित्र बंधन जो हमको सच और सच्चाई पर चलने की राह दिखता है और हमको सही मायने में सच्चे प्

ROHINGYA MUSLIMS: Terror Or Terrified?

रोहिंग्या मुसलमान : आतंक और आतंकित? वर्तमान समय में रोहिंगिया मुसलमानो के विषय में यह प्रश्न फिर चर्चा का विषय बन कर उभरा है क्या वास्तव में ये रोहिंगिया मुसलमान आंतक का चेहरा हैं या इन रोहिंगिया मुसलमानो का समुदाय बीती कई सदियों से बस आतंकित किये जाते रहे हैं।  अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाले ये रोहिंग्या मुसलमान वास्तव में विश्व के कई देशों में जिसमे भारत भी शामिल है, में आतंक का कारण बने हुए हैं य फिर अल्पसंख्यक समुदाय से आने के कारण बस आतंकित किये जा रहे है। रोहिंग्या मुसलमानो के आतंक और आतंकित होने के विषय में चर्चा करने से पहले इन रोहिंग्या मुसलमानो के विषय में कुछ विशेष तथ्यों के बारे में जान लेते हैं।  कौन हैं ये रोहिंगिया मुसलमान? वर्तमान समय में शरर्णार्थी के तौर दर-बदर भटकने वाले इन रोहिंग्या मुसलमानो को इनके अतीत के तौर पर अरकानी भारतीयों के तौर पर जाना जाता है। रोहिंग्या मुस्लिम समुदाय मुख्य रूप से मुसलमान बाहुल्य व आंशिक रूप से हिन्दू जनसँख्या वाला समुदाय है।  अगर बात रोहिंग्या मुसलमानो के इतिहास की करी जाये तो 8वीं शताब्दी से रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार में ब